Thursday, October 30, 2014

क्या औरत की भी माँ होती है?

औरत होकर ये तेवर
किसने दी तुम्हें इजाजत 
चीखने -चिल्लाने की
ये तो है मर्दों का हुनर

क्यों रुँधता है गला 
सूख जाती हैं आँखे 
खुद ही तो चुना था अपना धन 
रीति-रिवाज और सामाजिक बंधन

कहाँ है बेटी तेरी माँ 
जो पोछती तेरे आंसू 
भरते तुम्हारे भी जख़्म

मत भर झूठा दंभ कि 
तुम्हारी भी “माँ" होती है
अगर यह सच है तो बता 
क्यों चुपचाप यूं 
मझधार में अकेले ही रोती है

आगे से तू भी 
बेटी की माँ बन
उसे पराया न बना
अधिकारों की बात मत कर

पहले बन एक ‘औरत’ की माँ 
जो भरती है आत्मविश्वास 
देती है संबल 
सुख-दुख में 
देती है साथ, और
अपना कहने का हक

(रचना त्रिपाठी) 

 

12 comments:

  1. संवेदनशील कविता!

    ReplyDelete
  2. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (31.10.2014) को "धैर्य और सहनशीलता" (चर्चा अंक-1783)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी है और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा - शुक्रवार- 31/10/2014 को
    हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः 42
    पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें,

    ReplyDelete
  4. बेटी होती है 'परायी'
    ये परायी बहुत पीड़ादायी है बेटियों के लिए
    वैसे माँ के लिए बेटी कभी परायी नहीं होती
    सुन्दर !

    ReplyDelete
  5. माँ को ही जागना होगा ... अपने लिए सबसे पहले तभी बेटी में भी साहस आएगा ... प्रभावी रचना ...

    ReplyDelete
  6. very nice.

    http://hindikavitamanch.blogspot.in/

    ReplyDelete
  7. हर स्त्रीत्व को अपने आत्मसम्मान को सम्भालना होगा.

    ReplyDelete
  8. Sanvedansheel prantu ab har stri ko jaagna hoga .. Ladna hoga apna mahaatv samjhna hoga ,... Lajawaab !!

    ReplyDelete
  9. सुन्दर रचना | माँ करो ना याद कि तुम भी थी बेटी
    फिर आज कैसे बनी पराई तुम्हारी अपनी बेटी |

    ReplyDelete
  10. संवेदनशील रचना ....

    ReplyDelete

आपकी शालीन और रचनात्मक प्रतिक्रिया हमारे लिए पथप्रदर्शक का काम करेगी। अग्रिम धन्यवाद।